मंगलवार, मार्च 14, 2017

ज़िन्दगी....

तम्रिसी ... खोट की महफ़िल ...
बुरा .... मेरा  खरा  होना !
सच की ..... फस्ल की खातिर...
ज़ुरूरी है ... सच को बोना !
----------------

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------