गुरुवार, जुलाई 17, 2014

eva braun


   कई बार लगता है मुझे , की काश मुझे वो सब मालूम होता जो मैं जानना चाहती हूँ !
----------- जानकारी हासिल करने का एक सशक्त माध्यम है पूछताछ -------- :) सही समझा आपने / मुझे बताइए eva के बारे में !
________ मुझे सिर्फ़ इतना ही मालूम है अभी की वे हिटलर की पत्नी थीं ! १९४५ तक जीवित रह पाई थीं ! 
____________ डॉ. प्रतिभा स्वाति

सोमवार, जुलाई 14, 2014

चित्र कहते हैं...

   
----------   जब इस चित्र को देखा , इसके पीछे छुपे तमाम चेहरे साफ नज़र आए ! देश की गरीबी ,पिसता हुआ किसान , विवश मजदूर ,बिलखते भूखे बच्चे ,असहाय माँ........ और न जाने क्या -क्या .....जो अब तक ,मन को जब -तब मथ के रख देता है ! और  तब उस इन्द्रधनुष को देखकर भी ....मन नहीं बुनता कोई गीत ...कोई ख़्वाब .... कोई .... !!!
---------------- डॉ. प्रतिभा स्वाति

गुरुवार, जुलाई 03, 2014

मन रिक्त हो .....


 ______________
 _______________________________________
       मन का रिक्त रहना , बड़ा ज़ुरुरी है ......पर ,हर ज़ुरुरी बात हो ही जाए / ये  ज़ुरुरी नहीं :)

----------------- तो क्या मैं जरूरत के बारे में लिखना चाह रही हूँ ? या मन के बारे में ? या फिर उस  "रिक्त "होने को लेकर भरी बैठी हूँ ?

_________________ मन को ख़ाली करना आसन नहीं है --- चाहे वो मन अर्जुन का हो ( चंचलम हि  मन : कृष्णा , वायोरिव च दुष्कृताम !) या मेरा ...या आपका !

____जब बात में से बात निकल रही है / सवालों में से सवाल उठ रहे हैं /तब-- यदि मन को रिक्त न रखा जाए तब ? ये प्रश्न भी जवाब की तलब में तनकर खड़ा है !

------------- अब समाधान के लिये यदि मनोविज्ञान के पन्ने पलटे / तो निश्चय ही उलझ के रह जाना है ! मन को लेकर --- फ्रायड /एडलर /युंग जैसे मनोवैज्ञानिक अपनी पूरी बात आपस में नहीं जंचा पाए , फ़िर मै तो एक अदनी- सी ....... :) 
_________________ मन वांछित विचार को जगह देने के लिये मन का ख़ाली होना ज़ुरुरी है ?
____________________ अवांछित के निष्कासन के लिये मन का रिक्त होना ज़ुरुरी है ?
-------- या मन रिक्त ही रहना चाहिये  ?
_________________ योग कहता है , मन रिक्त हो !
योग /यानि हमारा छठा आस्तिक दर्शन ! 
योग यानि यम से लेकर समाधि तक का सफ़र !
योग यानि- आत्मा से परमात्मा का मिलन !
योग यानि .......ओह ! हम तो मन की बात कर रहे थे ! रिक्त  होने की बात कर रहे थे !
____________इतना लिखकर / कुछ ताने -बाने बुने तो हैं / निरर्थक ही सही ! इस अभिव्यक्ति ने मन को ख़ाली सा कर दिया है ------ अब विचार ही नहीं ! उलझाव भी नहीं ! प्रवाह भी नहीं !

मन जो सागर था !
अब..... आकाश है !
............ मन रिक्त हो 
....मन रिक्त है !........ जय हो !

------------------------------ डॉ. प्रतिभा स्वाति 


बुधवार, जुलाई 02, 2014

साइबर क्राइम

_______________________________________________________________________________


                            इस युग में -- साइबर क्राइम , शब्द लगभग ' कम्प्यूटर ' जितना ही पुराना है ! इसके ख़िलाफ़ कानून क्या कर पाता है या करता है / इसका प्रावधान है ,जब तक  इसकी जानकारी आम जन तक नहीं पहुँचती / अधिकार कानून की किताबों में कसमसाते रहेंगे ! खबरें हैं ! वो भी सब तक पहुंच जाएँ /तो थोड़ी जागरूकता आ सकती है ! आनी भी चाहिये !कुछ जानकारी page से दे रही हूँ !
___________________ डॉ . प्रतिभा स्वाति
__________________________________

________________________________________________________________________


  •                  अगले कुछ वर्षों में कंपनियों में वित्तीय धोखाधड़ी की दूसरी सबसे बड़ी वजह साइबर अपराध बन सकती है  *
  • ________________________________
  •  पिछले तीन साल के दौरान साइबर अपराध के मामलों में उल्लेखनीय वृद्धि हुई   *
  • ___________________________________


    1. . साइबर अपराधियों ने नौकरी डॉट कॉम की साइट हैक करने की कोशिश. नौकरी डॉट कॉम ने कहा कि संदिग्ध रूसी साइबर अपराधियों ने इस महीने की शुरूआत में उसकी वेबसाइट हैक करने की कोशिश की। *
    2. ________________________________

      1. नई दिल्ली। भारत पर अब साइबर क्राइम का साया मडरा रहा है। साइबर क्राइम के तहत दर्ज होने वाले मामलों में में ५१ प्रतिशत इजाफा हुआ है।  *
      2. _____________________________
    3. . साइबरआतंकवाद एक वाक्यांश है / जिसका उपयोग आतंकवादी गतिविधियों में इंटरनेट आधारित हमलों का वर्णन करने के लिए किया जाता है,  *
    4. _______________________________
    5. कमेंट में बताने की कोशिश करुँगी कि / उपाय या निराकरण के लिये / या समस्या के हल के लिये ,क्या किया जाना चाहिये ! :)

  • मंगलवार, जुलाई 01, 2014

    विदूषक :)



       __________________________________
     _____ जीवन में ' हास्य ' के क्या माने हैं ? आज के  'लाफ्टर- शो ' और ' कॉमेडी सीरियल " इस ज़ुरूरत को किस हद तक पूरा करते हैं ? ये चिन्तन का विषय न भी हो /पर इसपे एक सहज वार्ता की जा सकती है !
    ---------------- चुटकुले भी इसी क्षेत्र की उपज हैं !  जोकर भी ! टेपा सम्मेलन या मुर्ख दिवस मनाया जाना भी ------ इसी हास्य के उदाहरण या प्रमाण  हैं !
    ---------------------- आज यदि ज़ुरूरत है तो इसकी विषय- वस्तु को परिमार्जन की ! उसे ' उपहासात्मक ' और अभद्रता से बचाए रखने की ! इसकी शुरुआत स्वयं से करनी हो /तो 'लाफ्टर -थेरेपी ' या ' हास्य -योग ' अच्छा और सशक्त माध्यम है :)
    --------------------------- शेष / कमेंट्स ही में कंटीन्यू करूंगी / हमेशा की तरह ----------- ;) 
    ---------------- क्युकी /विदूषक पर / विचार -विनिमय शेष है :) 
    _________________ डॉ. प्रतिभा स्वाति 



    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    -----------Google+ Followers / mere sathi -----------