मंगलवार, दिसंबर 24, 2013

बाँट देती हूँ / अक्षर - अक्षर




                 ________________ इस पोस्ट  में fb का स्क्रीन केप्चर किया है  !
            मुझे  मालूम  है / एक  बहुत  बड़ा पाठक वर्ग  fb पर है ! समन्दर  की तरह विशाल ! मेरा  वज़ूद वहाँ  इक  बूंद  जैसा है ! लेकिन  मुझे कतई  अफ़सोस  नहीं ! ये  मेरा  दम्भ  नही  मेरा दायित्व  बोध  है की  मै  उस  समन्दर  में सीप  के  मोती  की  मानिंद  रहूँ ! मुझे
 कुछ देना  होगा  उस  पाठक  को / जो  मेरे  लेखन  की  कद्र करता  है ! इंतजार  करता  है  ! तारीफ़   करता  है !
                       ब्लॉग  तो  वो  बगिया  है  / जहाँ का  हर  फूल  महकता  है !और  fb पर उस महक की दरकार है,ये उस पाठक का हक़ है और लेखक का फ़र्ज़ !
---------" इसलिये / गढ़ती हूँ इबारत  !
---------- बाँट देती हूँ / अक्षर - अक्षर ! " 
-------------------------------- डॉ .  प्रतिभा  स्वाति    
   

सोमवार, दिसंबर 23, 2013

बाल - साहित्य



 कहाँ   गए / वो कथा - कहानी ?
खो  गए / बूढ़े , दादी  - नानी !
परी -  कथा  को , सुनते बच्चे !
स्वप्न , परी के  बुनते  बच्चे !

विज्ञान  जा पहुंचा घर -घर !
मोबाईल /टी.वी./ कम्प्यूटर !

----------------------------------- ये  मेरी एक लंबी -सी कविता  है ! जिसे ' नईदुनिया ' ने प्रकाशित  किया ! जब भी अवसर मिला उसे स्केन करके आप तक पहुँचाऊँगी !बाल - साहित्य मेरा  प्रिय  विषय  रहा है / मैने ख़ूब  लिखा ! एक  बाल - उपन्यास भी ! जिसे स्वदेश  ने अपनी  पत्रिका ' दखल ' में फिर से प्रकाशित किया !
---------------------------------
----- डॉ . प्रतिभा स्वाति




शनिवार, दिसंबर 21, 2013

फूल

-------------
                और  फिर से ,
                   फूल मुस्कुरा  दिया !
                   उसने खिलके कहा !
                      काँटों से मिलके कहा !
                      अय / ज़माने / ज़रा ,
                     अपने  गिरेबाँ देखो !
                      कब तुमने / मुझपे किये ,
                           कितने अहसां  देखो !
                          
                          काँटों  की है आदत !
                          फूलों की हिफाज़त !
-----------------------------------  डॉ . प्रतिभा  स्वाति



mgs 4 g +

har problm ka solution hota h / jb g + open n ho aur blog khul jae to frnds ko blog se bta do  ki mamla kya h ------------ mae ye post de rahi hu / apne g + k dosto ko :) kyuki  vaha comments nahi kar pa rahi hu :)

गुरुवार, दिसंबर 19, 2013

स्निप :) शॉट












 fb पर पोस्ट देते समय तमाम बातें ध्यान रखनी पड़ती हैं ! कि आप आम इंसान से जुड़े हैं / जो लिख रहे हैं, उसकी उपयोगिता  बनी रहे ! शब्द  जाया न हो जाएँ ! वक्त बर्बाद न हो / तब दिया करती हूँ eng . font !
                          

मंगलवार, दिसंबर 17, 2013

लालटेन /गाँव



                 अब कहाँ  दिखते  हैं ?
              लालटेन / कंदील !
            नहीं  झुटपुटाती  साँझ !

           अब कहाँ  उठता है धुंआ  ? 
           घर की चिमनियों  से ?
           चूल्हों से / सिगड़ियों से ?

           चौपालों  पे चिलम फूंकते लोग ?
            दोपहर में ढोलक को थाप देती ,
           ' बुलव्वा ' में ठठाती औरतें ?

            कहाँ रम्भाती है  गैय्या ?
              कहाँ रहे वो पीपल ?
               आंगन में फ़ुदकती गौरैय्या ?

              उफ़ / शहर में जन्मी !
              शहर में पली -बढ़ी -पढ़ी !
                एक बार गाँव क्या देख आई !
                 देहाती हो गई ? 

                 नहीं / एक  पूरा गाँव ,
                तमाम संस्कार और माधुर्य लिये ,
                 मुझमे / तुममे / हम सबमे ,
                  हर वक्त / साँस लेता है !

                  जब भी / घुटने लगे दम !
                  पाखंड और आडम्बर लिए ,
                   इस सभ्यता से / आधुनिकता से !
                   जाना / उस गाँव ज़ुरुर जाना !
                    जीने के लिये / जीवन के लिए !
                    असमय आए वार्धक्य में ,
                   लौटने को मचलते / मासूम 
                    निर्दोष बचपन  के लिए !
--------------------------------  डॉ . प्रतिभा स्वाति
                       

रविवार, दिसंबर 15, 2013

अरमान



              दिल के किसी कोने में !
            दबी चिंगारी की तरह ,
                मिलते ही मौका ,
             अरमान / सुलगते हैं !

             सभीके  के होते  हैं !
               पर / पूरे कब होते हैं ?
              ये / धधकते हैं !
               और / हम / रोते हैं !

               पालते  हैं / जतन से !
                 पर ये / नहीं लौटाते ,
                  सुकून / चैन / करार !
                  इस आग़ में / सब स्वाहा !

                 इसी आग़ से / बहता है ,
                     दर्द का दरिया / समंदर !
                      हर दिल के अंदर !
                    और हम / देखते हैं ,
                    रोज़ / तमाशा !
                    आग़ / पानी का !
                       ख़ुद की कहानी का !
------------------------------ डॉ . प्रतिभा स्वाति 
                      
             



DR. PRARTHANA PANDIT: new bloger

DR. PRARTHANA PANDIT: my 2nd book

शनिवार, दिसंबर 14, 2013

यूँ ही ...

     

                              सच कहिये तो 
                कभी भी / आंखों में 
                  नमी का / कोई भी 
                    कारण नही होता !
                   कारण / होते हैं ,
                        यूँ ही / अकारण !
                     किसी के होने पर 
                      उसके न होने का ,
                     गम  / मातम ?
                       ज़रा देर के दिखावे !
                       फिर / आ जाती है ,
                          हंसी / कभी 
                        खुदपर / अक्सर 
                          दूसरों पर / सबको !
                           आख़िर / क्यूँ ?
                            कब तक ?
------------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति 

शुक्रवार, दिसंबर 13, 2013

मेरे फ़ोटो / मेरे haiga























-------------------- अब  ये अपने फ़ोटो पर ' हाईगा ' लिखने की कोशिश की / स्केनिग  के साथ :)

बुधवार, दिसंबर 11, 2013

me & my animated haiga

 me & my scanig :)









































                                  एक  पीढ़ी  जो  'हाइकू '  गढ़ती  रही ! क़िताब / पत्रिका और अख़बार के पन्नो पर ही जन्मी , फलीफूली और समाप्त हो गई ! मै रविन्द्रनाथ  ठाकुर वाली जमात की बात कर रही हूँ ! १९१९ में वही तो अपनी जापान यात्रा k  बाद / बंगला में हाइकू की सौगात लाए थे भारत के लिये !
                                   और मुझे ख़ुशी हुई जब मैने ' एनिमेटेड हाईगा ' बनाया और indian haiku hystory में
' आधुनिक हाईगा ' k नाम से इसे स्थापित किया !
                       
                                   ' आस्था ' ने मुझे पुरस्क्रत किया / एक गैर साहित्यिक ,सामजिक संस्था / आभार !
---------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति

                              

मंगलवार, दिसंबर 03, 2013

12 'हाईगा '

                                                                                 

                                           1




                                                                         2
 



                                                                                    3




                                                                                    4




                                                                                        5




                                                                        6



                                                                               
                                                                      7





                                                                                8





                                                                              9




                                                                            10





                                                                         11





                                                                    12              



%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%
आपको  कौनसा  पसंद आया ?
कमेंट में उस haiga का no बता दीजिये plz
और अपनी letest पोस्ट का link भी देते जाइये !
%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------