शनिवार, नवंबर 30, 2013

haiga animation

 ******************************************
        हाइकू  का  सम्बन्ध आस्तिकता  से  है !
       प्रक्रति  से  है !
       संवेदना  के  सम्प्रेषण से है !
        सौन्दर्य  के  संचार  से  है !
          संस्क्रति  और  संस्कार  से है !
          हाइकू  सकारात्मक  हो ,ये बहुत  ज़ुरूरी है ! साहित्य   के  स्रजन और  समाज के हित के मद्देनज़र !
------------------------  डॉ . प्रतिभा स्वाति 
*****************************************  


गुरुवार, नवंबर 28, 2013

गौरैया

%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%
देखके  चित्र !
बहन  पूछे , भैया !
कहाँ  गौरैया ?
%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%% 
c
------------------------- डॉ . प्रतिभा  स्वाति
%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%


               सचमुच  / अब ,
              वो  नहीं  दिखती  !
                  अब  कहाँ  रहे ,
                     वो  आंगन / चौपाल  ?
                      गोधूली  बेला  में ,
                    रंभाते  हुए  बछड़े  !
                      धूल  उड़ाती  गैय्या ,
                      शोर  मचाते  ग्वाल  !
                       अरे !
                     मेरे  पास / तो  बस ,
                      कुछ  यादें     हैं !
                       बचपन   की  !
                      भुला  दूँ / तो  क्यूँ  आख़िर ?
                       और  याद  रखूं / तो
                       इनका  क्या  करूं  फिर ?
                         खोजती  हूँ  /  रोज़
                        और  /  सहेजती    हूँ  चित्र !
                         और  बुन  देती हूँ !
                         कोई गीत /  कहानी !
                         नई  नस्ल  के  लिये !
                         जैसे  संजोता  है किसान ,
                          अच्छे  बीज !
                         उम्दा  फस्ल  के लिये !
----------------------------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति



हाइकू : आधुनिक हाईगा

हाइकू : आधुनिक हाईगा: ( link)
                                        *
                                        *
                                           
                                                                              
                                                                          
                                                                          *
                                                                           
                                                                                   *
                                                                                       *
                                                                                          

                            जब जापान ने हाइकू की शुरुआत की /
                           तब  तकनीक इतनी विकसित कहाँ थी ,
                        कि इस तरह के haiga  बन पाते !
                                आज हम समर्थ हैं ............
******************************************
            ' animated haiga ' के   प्रथम  सफ़ल  प्रयोग 
  के   लिये  मुझे आज तक किसी वरिष्ठ ' हाइकूकार ' ने सराहना नहीं दी ! उन्हें खबर ही नहीं ? मेरा संकेत उन पिछली पीढ़ी के हाइकू दिग्गजों से है / जो कम्प्यूटर का लाभ नहीं ले पाए ! किताबें थीं तब !
_____________ पर अब वो बात नहीं ! 1717 और 2015 के बीच का सफ़र किसी कहानी से कम नहीं !
-------- डॉ. प्रतिभा स्वाति 

*******************************************                 '  


मंगलवार, नवंबर 26, 2013

8 हाईगा

                                          *
                                          *
                                                                                    **
                                         *                                  


                                                                                                
                                                                             *
                                       *
                                          *
                                          *   
                                        *
                                        *

*
*
* -
*********************************************
* ' हाइकू ' और ' हाईगा '  दोनों  जापानी शब्द  हैं !
*गा अर्थात चित्र  !
*हाई अर्थात गीत !
*कोई  काव्यात्मक  कथ्य !
        मुझे  हाईगा , कभी  कविता जैसा लगता  है / कभी चित्र कल्पना  का पर्याय  होकर किसी सलोने  सपने जैसे  लगने  लगते  हैं ! कभी  मन का  'कहानीकार ' जाग उठता है ,चिहुक  के  कहता  है , इनमे  छुपी  है , एक ख़ूबसूरत  कहानी !
                     और  हर  खयाल  मुझे  अच्छा  लगता  है , सच्चा  लगता  है !
---------------------------------- डॉ . प्रतिभा  स्वाति
********************************************   
                                                                     
                                      

सोमवार, नवंबर 25, 2013

ख़ाली खत ...

*******************************************


बहुत  दिन हुए ,
खत नही लिखा !
बहुत  दिन  हुए ,
खत    नही   दिखा  !

वो  खत  /  जिसमे  
यादों   की  महक ,
बसती    है ?
वादों   की   महक  ,
बसती    है ?

कुछ  नमक   जैसे / शिकवे  !
कुछ   चटपटे - से   गिले  !

मैं   उसे  रोज़  पढ़ती   हूँ  !
और  जवाब  गढ़ती   हूँ  !

मुस्कुराती  हूँ   !
आंख   नम   करती  हूँ  !
बातें   खुदसे  / उससे ,
कम   करती   हूँ  !

उसे   नहीं   छुपाती  ,
किताबों   में  !
सरहाने  भी  नहीं  !

हाथ  में  लेकर ,
सोचती  हूँ  , आज   लिखूंगी  !
पर   दूर - दूर  तक मुझे ,
कोई  अपना  नज़र नहीं  आता  !
कोई   सपना  नज़र  नही  आता !

क्यूँ  ? मैं   नहीं  लिख  सकती  ,
खत   ख़ुदको  ?
पर  /  कलम  सन्न -सी  !
सूख   गई   है   सियाही  !

और  /  आज  ,
वो  ख़ाली  खत   भी ,
खो   गया   है  ! 
ओह !  आख़िर  / ये 
मुझे  क्या  हो   गया  है !
----------------------------  डॉ . प्रतिभा   स्वाति 
***************************



  

आवाज़

********************************************************************************
******************************************
              अपने  उस  ब्लॉग  की एक पोस्ट विशेष के comments में , मैं लिखा करती हूँ ! इस  तरह !

शनिवार, नवंबर 23, 2013

ख़ुशी / अब यहाँ नही रहती

मत पूछिये  सबब ,
मेरे यूँ / आज
मुस्कुराने  का !
किसी कोयल से ,
गीत  गाने का !
पतझड़ में ,
उस सूखी टहनी पे ,
फूल के खिल जाने का !

मत पूछिये  सबब !
आकाश चूमकर ,
परिंदे से / फिर 
नीड़ तक लौट आने का !
खारा है समन्दर ,
फिर भी / मचलकर 
उसके  करीब ,
नदी के यूँ जाने का !

क़ुदरत के इशारे ,
सदियों  से ,
यूँ हि , चला करते हैं !
बेसबब ! और 
मै / तुम / हम-सब ,
हाथ मला करते  हैं !!

अब /यहाँ ,
अपना कोई नही रहता !
रह जाइये / जब 
आ ही गए है / दर तक ,
मेहमान बनके !
वो कहकहे !
वो शोख़ मुस्कुराहटें !
छनकती  पायल !
चूडियो की खन- खन !
महकता आंगन !

अब इस / वीराने में ,
कुछ  भी नही साहिब !
'ख़ुशी ' / अब 
यहाँ  नही रहती !
मेरे घर का 
सामान  बनकर !
----------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति  

शुक्रवार, नवंबर 22, 2013

सच




 ***************************
*************
                             इन सियाह !
                  सर्द  रातों  में !
                      अरमानों  की चिता !
                     बुझ भी गई / लेकिन ,
                       ये तपिश / जो 
                  अब भी / बाकी है !
                 जाने कैसा ,
                    सुकून, देती है !
                     ये जो / धुंआ - सा 
                        उठता है / अश्क 
                        बहने का सबब है !
                         तेरी यादें / अब ,
                         मुझे , रुलाती नही !
                           याद करके तुझे ,
                            अब / यूँ ही / अक्सर ,
                           बेसबब / मुस्कुराती हूँ !
                            दूर होकर / मैं तुझसे ,
                             खुदके पास आती हूँ !
-----------------------------------  डॉ . प्रतिभा स्वाति
******************************************
        

गुरुवार, नवंबर 21, 2013

कबीर / ग़ालिब

हाइकू : कबीर / ग़ालिब /भाग 1: * link *


******************************************* * कबीर और ग़ालिब , समकालीन  नही  थे !  * उनकी तुलना  का तो सवाल  ही  नही उठता !  * फिर भी...

बुधवार, नवंबर 20, 2013

ख़ुशी


*********************************
ख़ुशी   के    रंग ,
शोख़ ,
सुनहरे -से !
जीवन के ,
बंज़र में ,
दिखते हरे - से !!
************************************** 


कबीर / ग़ालिब /भाग 1

हाइकू : कबीर / ग़ालिब /भाग 1: ( link )

 ******************************************* *
 कबीर और ग़ालिब , समकालीन  नही  थे !  *
उनकी तुलना  का तो सवाल  ही  नही उठता !  *
 फिर भी...

मंगलवार, नवंबर 19, 2013

हाइकू : choka /सुनो कबीर .... (1)

हाइकू : choka /सुनो कबीर .... (1): ------------ सुनो  कबीर ! रे  सुन भई  साधो ! कलयुग  है ! --------------- मात -पिता  को , अब मान नहीं है ! सब  ही अंधे , कोई ज्ञान  ...

6 चोका रचनाएँ

हाइकू : 6 चोका रचनाएँ:  ( link)


  *****************************************
           सबसे  पहले  मै  अपने  ' हाइकू ' लेकर fb पर  ही गई / आम इंसान के बीच ! ... एक page बनाया फ़ेसबुक पर " pratibha k haiku " नाम से ! उसके बाद बना हाइकू पर ब्लॉग ये रचनाएँ आपको वहीँ का पता दे रही हैं :)
***********************************************

सोमवार, नवंबर 18, 2013

पनिहारिन

*****************************************
             ' sedoka ' में 2 पद होते हैं ! यह  कुल 6 लाइंस का वर्णिक  छंद है ! दोनों  पदों में वर्णों का क्रम 5-7-7 रखे  जाने का विधान  है !
*******************************************

पनिहारिन !
है  कठिन  डगर !
पनघट  से   घर  !

क्यूँ झटपट ?
मुख पर घूंघट !
घुंघराली -सी  लट !
----------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति
*******************************************  

रविवार, नवंबर 17, 2013

मेरी ज़िन्दगी

 भोर के उन सुनहरे  ,
 नर्म उजालों की कसम !
साँझ  के सुरमयी  ,
रेशमी / उदास ,
खयालों की  कसम !

अय चांदनी रात ,
तेरे चाँद से पूछ ,
मेरी इबारतें यूँ / जो
चमचमाती  हैं !
उनमे सियाही/ उन
मावसी रातों की है  !
जिन्हें /  हर रोज़ ,
दिन में / हर 
शफ्फाक़ सुबह  में ,
जिया है मैने !

मेरे दिल में / जो
रौशनी है !
जानता है  ख़ुदा ,
जलाके / ख़्वाब 
अपनी ज़िन्दगी में ,
हरदम / यूँ ही ,
उजाला किया है मैंने !
-------------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति

शनिवार, नवंबर 16, 2013

रात और मैं

*************************************
रात  क्यूँ ख़ामोश है ?
चाँद को क्यूँ रोष  है ?
पूछिये ज़रा !
सितारे  मद्धम  क्यूँ हैं ?
आसमां को गम क्यूँ है ?
पूछिये  ज़रा !
क्यूँ जागते  हम हैं ?
आँख  क्यूँ नम  है ?
पूछिये  ज़रा !

वो  जो जिया  करते हैं ,
तनहाई  में अक्सर !
वो जो सिया करते हैं ,
दामन् अपना छुपकर !

हम दर्द-ए-दिल के ,
खुशमिज़ाज़ साजिन्दे !
बाद्शाहों की मानिंद ,
दिखा करते हैं अक्सर !

तुम रातों को सोने वाले ,
क्या जानो राज़ गहरे हैं !
कहने को कह डालूं लेकिन,
ख़ुद बिठाए  ये पहरे हैं !
------------------------------ डॉ . प्रतिभा स्वाति
**************************************** 


रविवार, नवंबर 10, 2013

कबीर / ग़ालिब (1 - 4)

 ******************************************
कबिरा कान्हा कब मिले ?
मिले कब तुम हे राम *                             1.
प्रभू प्राण  का नाम है !
जग में क्यूँ कोहराम ?
******************************************
कबिरा सिक्का  चाम का *
तुगलक़ लिये चलाय !                              2.
अब तो  बापू  के  बिना ,                           
नोट  नहीं चल  पाय !
******************************************
कबिरा खड़े बजार  में ,
ग़ालिब मिल  गए राह !                            3.
इक दूजे से पूछते -----
है तुमको किसकी चाह ?
****************************************** 
कबिरा  माया मुंहजली ,
कईसे करूंअ  निबाह ?                             4 .
ग़ालिब बोले छांह  है ,
मत भरिये  यूँ आह ! 
****************************************** 

गुरुवार, नवंबर 07, 2013

चाँद

रात भर ,
करता रहा ,
वो फ़रियाद !

रात ख़ामोश !
सितारे चुप !!
मै भी आख़िर ,
क्या देती जवाब ?


जब लिया ,
हाथों में चाँद !
पोछ दिया आज ,
उसके,
माथे का दाग !

ज़िन्दगी के,
 अंधेरों से,
लेकर काजल ,
लगा दिया डिठौना !

और / पूछ लिया ,
मुस्कुराके आज !
हर अमावस पे ,
उसके / गायब ,
होने का राज़ !!
-------------------------- डॉ . प्रतिभा स्वाति


बुधवार, नवंबर 06, 2013

आमीन कह देना !

 **************************ay khuda !
 sirf beejo se /
 fasl umda nahi hoti !

yeh 
/ mazahbo ki deevar 
/ rokti hae ,

khuli hava k rukh ko 

/
 inhe tuh , aaj , abhi /
nestnabud kar dena !


hasrat meri /
 tu aameen kah dena !
---------------------------------------------------- Dr. pratibha sowaty



*********************************

कौन था वो ?


 कौन  था  !
वो शख्स / जो ,
अपना / भूल गया था ,
आपा / और  
उसकी आँखों में ,
बस इक़ ख़्वाब ,
बसा करता था !!!
न इश्क- वफ़ा ,
न दीन-ओ-इमान !
जब भी निकलते ,
थे / लफ्ज़ 
लोग सुना करते थे ,
बस ...एक ही जुनूं,
वो / आठों पहर ,
----' इन्कलाब ' ---
कहा करता था !!!
---------------------- डॉ. प्रतिभा स्वाति

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

-----------Google+ Followers / mere sathi -----------